A2Zapps nominated in‪ #‎ExhibitHottest100TechStartups‬ amidst over 3000 entries

A2Zapps has been nominated in‪#‎ExhibitHottest100TechStartups‬ amidst over 3000 entries- and, this is surely a ‘bask in the glory’ moment for ‪#‎A2Zians‬.

Want to know the story behind building ‪#‎SuperApp‬– a mobile-first cloud based app platform? Head to ‪#‎Bangalore‬ to know from the man behind Super App- Kantanu Kundu aka KK.

With Super App addressing the pressing areas of SMEs, Mid and Large Firms from varied business verticals, ‪#‎MobifyStore‬– a new product of‪#‎A2Zapps‬– is now live serving the retailer community. Continue reading

Take a Sneak Peak Into Our Customer’s Products at The ID Show, Delhi on 11-12 Feb

Home is where the heart is. Holds true not just in sentence, but also in every nuance of our lives. Gone are the days when what mattered was just a bed, wardrobe, wooden sofa and perhaps, a dressing table. Home décor has transformed from the same old boring styles to something that shows class and elegance. Families from every class of the society are now paying attention to the little details that go into making a house to home.

In case, you are looking to make that elegant start, and aren’t sure of where to head, then you must visit HouseToHome. With over two decades of experience, House to Home brings to you their expertise from their experiences in the home décor and furnishings business. And, if you are looking to take a sneak peak into their products, then the Square Inch India Design ID 2016 is your place to be this weekend. Top interior decorators and designers have themselves nitpicked on the wide array of products available on HousetoHome. The products will be on display at several of the stalls in NSIC Okhla, New Delhi, from February 12-14.

A lovely lighting in any corner or the middle of the room can transform your just another house into a stylish and elegant one, the elegant Nancy Wooden Chandelier should be the best bet for making that everlasting impression on your guests and visitors. All this and much more will be on display at the Design Fair. Don’t miss out this opportune moment to transform your house to a beautiful home.

housetohome.co.in: An Online Marketplace for Home Décor

Imagine the happiness on the gardener’s face, when he sees his small seedlings transform into a plant bearing fruits and flowers. Priceless, isn’t it?  Imagine seeing your idea turn into a final product. An idea that was once a part of the pages of your diary, an idea that you probably saw erasing out every time you struggled with setting it up, an idea that finally flew out of your mind and saw the light of the day. You had waited for this moment with baited breath.  You are finally ‘live’ to the whole world wide web.

That’s precisely how HouseToHome – a home décor and furnishings brand feels at the moment. Born in 1989 as Multitech Services, they are now country’s leading buying houses in the field of home décor and furnishings. Having represented well-known global chains of home stores in South Africa, Australia, UK and Europe as their buying agents, they have access to the most current and popular international designs. The past 25 years has seen them establish excellent working relationships with factories spread across the country and execute these designs to international standards.

It was then that they realized why should the Indian customer be deprived of these international designs? Thus, was born HouseToHome. “When we went to stores in the market to check out what products they had, we realized they were selling things that we had already sold long before. That’s when we decided that probably we should start something that lets the people in India choose world-class products that are fresh and not backdated,” says Raj Kumar, proprietor, HouseToHome.

With their established relationships with the designers from Denmark, Sweden, Mauritius and other parts of the globe, Raj and his team was able to put together the idea that could be a profitable business. Now, with a brand of their own, and a name that’s getting recognized by designers across the board, HouseToHome is all set to build a marketplace of their own in the online world. “Our products are are on display on February 11 and 12th at the ID Design Fair in New Delhi. We are very excited about it. The designers have themselves picked up products from our website and decided to display it in the fair. Our products are also going to be on display on their mobile app,” says Raj adding that this is going to be a good breakthrough for them as they deal in B2B business as well and such exposure will get them in touch with future clients as well as customers.

Establishing your own e-commerce marketplace site is not an easy task, especially, when you have the likes of Flipkart, Amazon, Snapdeal and others ruling the charts. Further, when you sell through these sites, it is then you realize the problems that loom large if not taken into consideration since the beginning. You need a website of your own, where you can handle all your customer data along with their preferences and other logistics and profits. This is why HouseToHome chose to develop a site with seller console and all their back-end CRM & ERP apps on MobifyStore- an emerging commerce platform.

“We did try selling through big e-commerce sites. But we realized there the electronic segment was the most popular and sought after product category. Having been in the export business for over two decades, we decided to start something of our own.  When we started with the idea, we met several developers for developing our website. But for us, it was not just developing the site and forgetting it. We needed a strong backend, from where we could gather data and derive strategies accordingly for further expansions. Through a friend, I came to know about KK and his venture. And, the rest is history as they say,” adds Raj hoping that all the efforts that has gone into putting together a website with a robust platform to take care of every intrinsic aspect of their daily business will do well. From centralized vendor’s product or payment management, inventory management, operational functionalities of their regular business and many more, each and every aspect of the online business of HouseToHome will be taken care of on their site powered by MobifyStore, an e-commerce edition of A2Zapps.

“Rather than running to get the results, we hope to promote, walk and establish ourselves well in the market,” concludes Raj. After all, slow and steady wins the race. This saying holds true especially in the case of online marketplaces which has seen mushrooming of websites at a pace almost same as the downsizing and closure of several other big online sites.

A2Zapps- The Chinese Bamboo of the Tech World

By Sneha

Patience and perseverance pays. Well, that’s the case with every successful person or entity. Nobody reaches the pinnacle of success at the drop of a hat. It is a step by step approach. Days of hard-work, moments of agony, tough circumstances, balancing act – are all the signs of something good that waits for you in future. Even, humans are born after nine months intense wait inside a mother’s womb.

Have you heard about the Chinese Bamboo tree? The tree is a true sign of patience and perseverance. It takes five years to grow. No, it is not that it grows out of the blue in the fifth year. It is the years of nurture, nourishment and care that’s provided to it over the initial course of the years that results in its growth in fifth year – up to 80 ft in six weeks.

Continue reading

7 Websites to Search for Products to Sell Online

By Sneha

In our previous post, we had given you a heads up on the five things you should consider while looking for products to sell online. Now that you have your pointers ready and know which way to proceed, there are websites that can help you decide on the products that you can sell or decide on. The websites not only provide you with plethora of options to choose from, but also open the window for thinking out-of-the-box and designing that niche product or service that can fetch you money.

When you step into something that is totally new to you, it is essential to keep everything under check. From how to get into the business, to what products or services to sell, how to procure or sell, how to earn profits from your business; every point needs to be scrutinised as keenly as you had taken the decision to plunge into a business. The popular e-commerce websites can surely give you ideas but there is some homework that needs to be done on your part. What is it? The most important aspect of a product, the must-have’s in your product, things that will make it sell.

Before we take you into these details, let us tell you the 7 websites that you must search for products to sell online:

1- Alibaba– The biggest e-commerce website where you can find plethora of product options to choose from. It is a B2B marketplace where you get in touch right with the source. Can there be a better way to choose products? Though it is the largest wholesaler and manufacturer database, you can surf through some of its competitor’s sites for further knowledge. These include- Global Sources, Trade Key, Made in China.

2- Amazon– You can browse for products using the Amazon sales data. It is a great source for growing demand of the population. There is a rank associated with the products that are sold on Amazon. It is known as the Best Sellers Rank (BSR). This number is used by Amazon to rank a product based on its sale compared to other products in the same category. Thus, you can browse Amazon not only for product ideas but also roughly estimate how a product is selling by looking at the BSR. Who knows you may find your niche product to sell?

3- eBay– Like Amazon, eBay is another great website to surf for potential products to sell. Though Amazon is a larger marketplace, eBay is a great place to research based on sales data in real time. Looking for the high demand products on the site can make you plan about your online store. Did you know there are tools that can help you track the sales data of these marketplaces? We shall provide you with the information in the next post.

4- Google– Like for your every problem, question, and query, you look upto Google; why not also for doing your product search. As you search through the sales data of Amazon and eBay, you can do the same for Google. The simplest way is to use the Google Keyword Planner that helps you to look at the exact keywords being typed in by people and makes you take an account of the products in demand and how much money can it generate for you.

5- Reddit– It is considered the biggest social media news aggregator. With an enormous influence, Reddit has sub-sections that includes variety of topics and areas of interest. These sub-sections, known as subreddits, can pave the way for that one product niche that you may have been brainstorming about.

6- Pinterest– Pinterest is like that genie which comes out of the magic lamp when you rub it, and provide you with options to choose from. It contains pictures of products and new consumer trends, where you can find a mine of popular stuffs that can throw some light at the end of your tunnel. You get not only product ideas but ideas that are popular, trendy and most sought after.

7- Instagram– If you had been using your Instagram account for sharing photos  and videos, then may be once you should do a different check on the social media site. Use Hashtags or follow product accounts to know what products are good to go for the audience. As it is all about pictures, it can help you decide on what can work wonders by looks as well as needs and wants.

Apart from the above mentioned sites, you can also search for products on online consumer trend publications such as Trend Watching, Trend Hunter, Springwise and if you have a product in mind, you can look through the industry, and search through industry experts in the field, scan through their sites and decide on your choice.

ऑनलाइन विक्रेता के दस सामान्य मुश्किलें

Written By Sneha and Translated by Shyam Prakash Jha

नीरा को उसके सालगिरह पर अमेजॉन डॉट कॉम से एक बड़ा पार्सल मिला। ये पार्सल उसकी माँ ने उसे उसकी जानकारी के बगैर भेजा था।  नीरा ने पार्सल खोलते ही पाया की उसकी माँ द्वारा भेजा गया माइक्रोवेव ओवन टूटी हुई अवस्था में था।  ये निश्चित था की ये गलती ऑनलाइन विक्रेता और अमेज़न डॉट कॉम की थी, जिन्होंने शायद माइक्रोवेव ओवन को अच्छे तरीके से पैक नहीं किया था। नीरा ने जब अमेज़न के ग्राहक मदद केंद्र से संपर्क साधा तो उसे कहा गया की ऑनलाइन विक्रेता उससे सीधा संपर्क करेगा। फिर ऑनलाइन विक्रेता ने नीरा से संपर्क किया तो नीरा को पता चला कि उसे उसका माइक्रोवेव ओवन सही अवस्था में मिलने में हफ़्तों का समय लग जायेगा।  मीरा विक्रेता को भी दोष नहीं दे सकती थी क्योंकि उसने उसे बताया की उसे टूटे हुए ओवन का घाटा वहन करना होगा और एक नया ओवन भेजना होगा। अब वह बस इंतज़ार और प्रार्थना कर रही थी कि बिना किसी और विलम्ब के उसे उसका ओवन मिल जाये, इसके अलावा उसके बस कोई चारा नहीं था।  ओवन बदलने की पूरी प्रक्रिया बहुत जटिल थी।  पहले उसे टूटा हुआ ओवन विक्रेता को वापिस भेजना था।  जब विक्रेता उस वापिस किये ओवन को जांच परख लेता फिर वह उसे एक नया ओवन भेजता।  बहरहाल इस पूरी प्रक्रिया में दो महीने तक का समय लगा और जब तक नीरा को नया ओवन मिला, उसकी सालगिरह को बीते हुए दो महीने निकल चुके थे।

फलती फूलती इ कॉमर्स की दुनिया

एक तरफ जहाँ ऑनलाइन की दुनिया में रोज नए नए विक्रेता आ रहे हैं, उनके साथ नानाविध तरह की समस्याएं भी अपना स्थान बना रही है। ऊपर के व्याख्यायित कहानी में वैसे तो नीरा को अपना नया ओवन मिल गया मगर उसे कूरियर और पैकिंग का खर्च वहन करना ही पड़ा। समय की हानि अलग हुयी।  दूसरी तरफ जहाँ विक्रेता ने अमेज़न डॉट कॉम पर अपना सामान बेच  के थोड़ा लाभ कमाया होता, उसे टूटे हुए ओवन की जगह नयी ओवन भेजने में दुगनी रकम खर्च करनी पड़ी । समय की हानि उसे भी हुयी।

ऑनलाइन क्रय विक्रय के अपने फायदे नुकसान दोनों हैं।  और जैसा कि  हमने अपने एक पहले के पोस्ट में बताया है, इस ऑनलाइन की दुनिया में क्रेता बनने से पहले किसी को भी सारे परिस्थितियों का बारीकी से अध्ययन करना ही चाहिए। बहुत सारे छोटे-छोटे विवरण ऐसे हैं जिन सब पर किसी विक्रेता का ध्यान निश्चित रूप से जाना मुश्किल है पर इन छोटी छोटी बातों का असर ऐसा हो सकता है कि विक्रेता को हानि हो और अंततः वह ऑनलाइन सामान बेचना ही बंद कर दे। गलत मूल्य निर्धारण से ले कर गलत उत्पाद सूची, कमजोर वितरण व्यवस्था, पुरानी पड़ी सूची  और कमजोर बैकएण्ड – न जाने कितने तरह की समस्याएं हैं जो विक्रेता और उसके ग्राहकों को प्रभावित करती है और अन्तोगत्वा बाजार की गलत छवि पेश कर सकती है।

विक्रेता के सामने विकल्प : इ कॉमर्स या अपना खुद का सेट अप 

उत्तर प्रदेश के तान्या शाह जो विनयार्ड्स नामक कपडे के ब्रांड की मालिक हैं, कहती  हैं कि किसी भी विक्रेता को ऑनलाइन विक्रय के दौरान पैसे के विनिमय की विधि को ध्यान से स्थापित करना चाहिए और किसी भी संदेह को दूर करते हुए न्यायिक प्रक्रिया के तहत अनुबंध करना चाहिए। तान्या कहती हैं “वैसे तो कई स्थापित वेबसाइट कंपनियों के साथ हमारी बातचीत हुयी है मगर हमने अभी तक ऑनलाइन विक्री नहीं की है। साथ ही ये इ कॉमर्स प्लेटफार्म मुनाफे का हिस्सा बहुत ज्यादा मांगते हैं।  वैसे कई नयी शुरू होने वाली वेबसाइट ने भी हम से संपर्क साधा है मगर नए होने के वजह से उनके ऊपर पूरा भरोसा होना मुश्किल है। ”

तान्या यह भी कहती हैं की यदि विक्रेता अपना खुद का सेट अप करे तो निसन्द्देह उसमे समय तो लगेगा ही। स्थापित वेबसाइट के ऊपर मौजूदा ग्राहकों की संख्या विक्रेता के लिए लाभदायी है लेकिन अगर नियम और शर्त विक्रेता के हिसाब से हो।
मुंबई स्थित शालिनी गिरीश LA Elegante जो की एक जेवर का ब्रांड है की मालिक हैं।  वो कहती हैं कि  एक तरफ इ कॉमर्स की दुनिया उन लोगों के लिए उत्तम जगह है जो कुछ नया करना चाहते हैं तो दूसरी तरफ कॉर्पोरेट जीवन के रूबरू होते हुए इसका प्रबंधन श्रमसाध्य हो सकता है।
शालिनी के अनुसार एक विक्रेता के लिए सबसे बड़ी चुनौती है ऐसे ग्राहक की मांग पूरी करना जो क्षतिग्रस्त सामान के लिए अपना दावा पेश करते हैं।  शालिनी कहती हैं ” ऐसे बहुत सारे उदहारण हैं जब ग्राहक को ऐसे सामान मिलते हैं जिसे वो पसंद नहीं करते हैं।  यदि स्टोर की कोई  वापसी नीति नहीं है तो ग्राहक सामान को क्षतिग्रस्त कर के बदलने की मांग करते हैं।  हम इसका पता कर लेते हैं।  जब हमें इस तरह की कोई नयी रिक्वेस्ट मिलती है, हम हमेशा सामान बदलने की बात कहते हैं।  लेकिन ग्राहक मना  कर देता है और बदले में कोई अलग सामान लेने की पेशकश करता है। मैं इसे इस तरह से हैंडल करती हूँ :
१. मेरी वापसी की नीति बहुत साफ़ शब्दों में फेसबुक पर प्रकाशित है।
२. मेरी सारी  कोशिश सामान बदल कर देने की है और हम ऐसे ग्राहक को क्षतिग्रस्त सामान के बदले दूसरा सामान देने की मांग को अनुमति नहीं देते हैं। ”
शालिनी और तान्या अपना उत्पाद फेसबुक पेज के जरिये बेचती हैं।

ऑनलाइन विक्रेता की मुश्किलें
इ कॉमर्स की दुनिया का व्यापार उतार चढाव वाला होता है।  एक तरफ जहाँ ग्राहक को तो “कैश ऑन डेलिवरी” (सामान सुपुर्दगी पर भुगतान) से ले के आसान वापसी की शर्तों वाली कई तरह की सुविधाएँ मिलती है , विक्रेता को सारा नुकसान उठाना पड़ता है।  चाहे वो उत्पाद बेचना हो या वापसी या फिर सामान बदलने की स्थिति। कई बार तो विक्रेता को बिना किसी लाभ के सामान को बेचना पड़ता है या बदलना पड़ता है।

इस पोस्ट में हम ऑनलाइन विक्रेता की दस समस्याओं पर ध्यान देंगे।
१ – कई वेबसाइट पर एकसाथ सामान बेचना : एक विक्रेता को एक से ज्यादा वेबसाइट पर बेचने में विभिन्न तरह की मुश्किलों का सामना करना पड़ता है।  इनवॉइस बनाने से लेकर, उत्पाद सूची बनाने की भिन्न प्रक्रियाएँ। कई वेबसाइट पर बेचने का मतलब एक ही समय पर विक्रेता को कई प्रारूप में इनवॉइस , आर्डर संख्या , एड्रेस लेआउट आदि बनाना पड़ता है।  साथ में प्रतिद्वंदियों से प्रतिस्पर्धा के मद्देनजर मूल्यों पर भी समझौता करना पड़ता है। चूंकि उत्पाद मूल्य अलग जगहों पर अलग हो सकते हैं, बहुत जरूरी होता है कि विक्रेता विभिन्न जगहों पर उत्पाद मूल्यों का ध्यान रखे और उसे बदलते रहे ताकि मूल्यों के प्रतिस्पर्धा में वो पिछड़ न जाये।  समय आ गया है कि उनके इन मुश्किलों के समाधान के लिए कोई ऐसा साधन मिले जिससे वो आसानी से यह काम कर पाये।

२ – क्षतिग्रस्त उत्पाद , रद्द किये गए आदेश , लोजिस्टिक्स से सम्बंधित समस्याएं : दरअसल इ कॉमर्स की नीतियां ज्यादातर ग्राहक के पक्ष में होती हैं, कभी कभी ग्राहक उसका दुरूपयोग भी करते हैं।  जैसे उपयोग किये सामान को क्षतिग्रस्त बता कर थोड़े दिन बाद वापस करना। दुर्भाग्यवश विक्रेता को ऐसे स्थिति में भी इ कॉमर्स वेबसाइट को कमीशन देना ही पड़ता है।  उत्पाद के क्षतिग्रस्त होने के बदले मूल्य मिलने की बजाय विक्रेता को वापसी का भी खर्च वहन करना पड़ता है।  यदि वापस किया हुआ सामान ठीक से पैक नहीं हो या क्षतिग्रस्त हो तो उसे फिर से बेचना असंभव होता है।

३ – स्प्रेडशीट की मदद से मैनुअल इन्वेंटरी : विक्रेता के लिए एक से ज्यादा चैनल्स के माध्यम से बेचने के लिए एक ऐसी इन्वेंटरी का होना जरुरी होता है जिसका उसके व्यापर के साथ पूरा तारतम्य हो।  ये वास्तविकता है कि बहुत सारे विक्रेता अभी भी इन्वेंटरी प्रबंधन के लिए पुराने तरीको जैसे स्प्रेडशीट का इस्तेमाल करते है जबकि तकनीकी प्रगति के साथ आजकल क्लाउड कंप्यूटिंग और एप्प्स कंट्रोल के समय में पुराने तरीको का इस्तेमाल श्रमसाध्य होता है।

४- आर्डर की संख्या : एक बड़ी समस्या जो विक्रेता के सामने मुंह बाये कड़ी होती है, वह है ग्राहकों को उत्पाद भेजने की संख्या। अगर ग्राहक और आर्डर की संख्या कम हुई तो प्रति उत्पाद भेजने का खर्च ज्यादा हो जाता है।  बहुत सारे विक्रेताओं जिनका कूरियर कम्पनिओं के साथ उत्पाद भेजने का समझौता होता है , उनके उत्पाद यदा-कदा देरी से भेजे जाते हैं अगर उत्पाद भेजने का आर्डर कम होता है।

५ – भुगतान और कर : ज्यादातर इ कॉमर्स साइट के भुगतान की अवधि ८ से ३० दिनों के बीच होती है। साथ में अलग अलग तरह के इनवॉइस फॉर्मेट के चलते टैक्स रिटर्न्स की समस्या अलग खड़ी हो जाती है।उसके अलावा इ कॉमर्स के जरिये व्यापर से सम्बंधित किसी मानक नियम की अनुपस्थिति या उसकी सही व्याख्यान न होने से मुसीबत और बढ़ जाती है।

६ – लाभ का अंतर : इ कॉमर्स साइट्स के ऊपर विक्रेताओं की बढती संख्या प्रतिस्पर्धा बढाती है और विक्रेता के रूप में आपके उत्पाद और उसके मूल्य को प्रभावित करती है। प्रतिस्पर्धा इतनी ज्यादा होती है कि हरेक क्षण एक विक्रेता दूसरे विक्रेता से सस्ता अपना उत्पाद बेचने की कोशिश में रहता है।

७ – सामान सुपुर्दगी के वक़्त भुगतान का कष्ट : इस विधि के अंतर्गत, ग्राहक भुगतान सामान सुपुर्दगी के वक़्त ही करता है।  इस तरह से ग्राहक पूरी तरह के कूरियर वाले बन्दे के ऊपर रकम के लिए आश्रित हो जाता है।  इसके साथ ही पैसे विक्रेता तक पहुँचने में १५ से २० दिन तक का समय लग जाता है।

८ – कुख्यात खरीदार : ऐसे कई किस्से हैं जहाँ कुछ खरीदार सामान सुपुर्दगी के बाद भी भुगतान करने को तैयार नहीं होते हैं।  कभी कभी तो डिलीवरी वाले बन्दे के साथ मार पीट भी कर डालते हैं।  ऐसे ग्राहक को सम्भालना और पैक करने से ले कर लॉजिस्टिक की पूरी विधि अपने आप में एक जटिल समस्या है।

९ – नकली और गलत समीक्षा : किसी विक्रेता की छवि को बिगाड़ने के उद्देश्य से कभी कभी दूसरे विक्रेता छद्म ग्राहक बन कर विक्रेता के उत्पाद की गलत समीक्षा लिखते हैं।  वैसे तो ज्यादातर इ कॉमर्स साइट ने ऐसे नकली ग्राहकों को पहचान कर त्वरित कार्यवाही करने का तरीका अपनाया है मगर एक सच्चे विक्रेता के लिए गलत समीक्षा से निबटना एक कटु अनुभव होता है।

१० – ख़राब छायाचित्र : किसी भी विक्रेता के लिए ग्राहक को आकृष्ट करने के कई तरीके सीखना जरुरी होता है।  किसी भी उत्पाद का ख़राब छायाचित्र उसके बिकने की सम्भावना को कम कर देता है।  किसी पेशेवर छाया चित्रकार के मदद से ली गयी तस्वीर उत्पाद और उसके विक्रेता की सकारात्मक छवि बनता है।

Down the nostalgic lane…

By Sagnik

Life at A2Zapps is no less than a relay race. Every #a2zian is running fast to pass on the baton to the other deserving a2zian, just to ensure that the race continues and the baton remains in the hands of the fastest member of the squad. I became the Product Manager a few weeks ago. I am yet to realize if it is a success or an opportunity to learn something more. Though it is little confusing but my mother says that she can see a sigh of happiness and relief on my face. Standing in front of the mirror gazing at myself to see the developments is impossible unlike girls. But I know I have made certain developments.

Continue reading